कोरोना आक्रमण के समय मोदी सरकार का अतिउदार व्यक्तित्व भारत के हित में नहीं है।

राजा रामचंद्र की जय, अयोध्या अधिपति का आशीर्वाद भारत पर और रामकाज में लगे शासन पर बना रहे। भारत इस समय समस्त विश्व की ही भांति कोरोना महामारी से युद्ध कर रहा है, भारत की असंख्य प्रजा भी इस युद्ध में एक सैनिक की तरह शासक के साथ खड़ी है,...

Continue reading

अतिविकास, अतिविलाश और अतिसत्तामद का परिणाम है कोरोना महामारी

अयोध्यापुरी, पूरी दुनिया में जो कोरोना नाम की महामारी फैल चुकी है वह केवल संयोग नहीं है, अपितु दुनिया में प्रचलित अतिविकास, अतिविलाश और अतिसत्तामद का दुष्परिणाम है, जब दुनिया में विकास नहीं था, तब भी दुनिया में एश्वर्य था, खुशी थी, धन था वैभव था और ज्ञान, विद्या इत्यादि...

Continue reading

हिंदुत्व बनाम गजवा-ए-हिन्द

राजा रामचंद्र की जय। हिंदुत्व की आदि भूमि भारत समेत समस्त विश्व में इस्लाम के आक्रमण के अलग-अलग आयाम रहे हैं। भारत के संदर्भ में इस आयाम का नाम है गजवा-ए-हिंद। इस्लाम के उदय के साथ ही, इस्लाम अपने शासन प्रणाली को विस्तृत करने और विश्वव्यापी करने के लिए सर्वप्रथम...

Continue reading

मोदी के काश्मीर निति पर वोट अवश्य करें।

राजा रामचंद्र की जय, इस समय भारत में भरतवंश के उन मुक्त कुलों का शासन है जो अपने को अखंड भारत व राम भक्ति से जोड़ती है इसी कड़ी में रामराज्य प्रशासन द्वारा मोदी सरकार के काश्मीर निति पर यह वोटिंग कराई जा रही है। कृपया स्वयं भी वोट करें...

Continue reading

राजा रामचंद्र के जन्मभूमि को खंडित करने वाले इस्लाम के साथ क्या करना चाहिए?

राजा रामचंद्र की जय, भारत ही नहीं पूरे विश्व के सम्राट राजा रामचंद्र जी का जो अयोध्यापुरी जन्मभूमि मंदिर खंडित  किया गया, जिसे इस्लाम के एक शासक बाबर द्वारा खंडित किया गया, यह सर्व विदित है। अब प्रश्न यह है कि ऐसे इस्लाम के साथ राजा रामचंद्र की प्रजा का...

Continue reading

सनातन अर्थव्यवस्था का तीर्थ पक्ष

राजा रामचंद्र की जय। विश्व में सर्वप्रथम अर्थ की उत्पत्ति करने का श्रेय अयोध्या अधिपति राजा पृथु को जाता है, जिनके पुरुषार्थ के कारण ही विश्व को धर्म के बाद दूसरे सबसे लोकप्रिय मानव पुरुषार्थ अर्थ का ज्ञान हुआ, राजा पृथु के कारण ही धरती को दो अन्य नामों से...

Continue reading

कोई भी अनाथ नहीं है क्योंकि पृथ्वी के राजा रामचंद्र हैं।

राजा रामचंद्र की जय। भारत का वसुधैव कुटुम्बकम का सूत्र केवल सिद्धांत या दर्शन नहीं है अपितु यह भारत के चक्रवर्ती राजसत्ता का उद्घोषक है, इस राजसत्ता को सर्वप्रथम राजा रामचंद्र ने ही इस संसार के समक्ष आदर्श स्वरुप में प्रस्तुत किया था, जिसके पश्चात संसार ने इसे रामराज्य के...

Continue reading