Online Ramrajya Sabha (3 June 2022, Sunday)

    श्री रामराज्य स्त्रोत आञ्जनेयपतिराजाराघवाय नमः, रामराज्यकोषमवतु प्रभो! कुरु रक्षासमृद्धिम् वैभववृद्धिम् प्रजाभि: करं दीयतेऽत:, तापत्रयम् नाशय तेषां, रामराज्यप्रशासकभाष्करस्य, वचनमिदं कुरु सिद्धम् ! प्रजा त्वं शपथं। जयतां रामराज्य:। इति रामराज्य स्त्रोतः

Continue reading

सभी को समान शिक्षा देने की भारतीय अनिवार्यता में चूक

भारत का अस्तित्व सनातन परंपरा से यदि है, तो इसके लिए भारत की शिक्षा व्यवस्था ही सबसे मजबूत सूत्र रहा है, जब सर्वप्रथम राज्य व्यवस्था का गठन हो रहा था और राजा प्रियव्रत के पुत्रों ने समस्त विश्व में राज्यव्यवस्था का क्रम प्रारंभ किया, जिसमें जम्मुद्विप के राजा ऋषभ द्वारा...

Continue reading

हनुमानजी का ऋण (प्रेरक लघु कथा)

रामजी लंका पर विजय प्राप्त करके आए तो, भगवान ने विभीषण जी, जामवंत जी, अंगद जी, सुग्रीव जी सब को अयोध्या से विदा किया। तो सब ने सोचा हनुमान जी को प्रभु बाद में बिदा करेंगे, लेकिन रामजी ने हनुमानजी को विदा ही नहीं किया,अब प्रजा बात बनाने लगी कि...

Continue reading

क्या आप जानते हैं? सुदूर उड़ीसा के जगन्नाथपुरी धाम में आज भी ठाकुर जी को सर्वप्रथम मारवाड़ की करमा बाई का भोग लगता है!

सुदूर उड़ीसा के जगन्नाथपुरी धाम में आज भी ठाकुर जी को सर्वप्रथम मारवाड़ की करमा बाई का भोग लगता है।  मारवाड़ प्रांत का एक जिला है नागौर। नागौर जिले में एक छोटा सा शहर है ….. मकराणा   यूएन ने मकराणा के मार्बल को विश्व की ऐतिहासिक धरोहर घोषित किया...

Continue reading

कोविड १९ ने स्वतंत्रता के मुख्य स्तंभ विधायिका, कार्यपालिका और न्यायपलिका के खोंखलेपन को स्पष्ट कर दिया है।

अयोध्यापुरी। भारतवर्ष में एक अति प्राचीन कहावत है कि सुख के सब साथी दुख में न कोई। इसी कहावत के अनुरूप आज परिस्थिति उत्पन्न हो गई है, भारत की पूरी जनता त्राहि-त्राहि कर रही है, परंतु कोई भी व्यवस्था उसे संतुष्टि के बोल नहीं बोल पा रही है। कोरोना के...

Continue reading

कोरोना आक्रमण के समय मोदी सरकार का अतिउदार व्यक्तित्व भारत के हित में नहीं है।

राजा रामचंद्र की जय, अयोध्या अधिपति का आशीर्वाद भारत पर और रामकाज में लगे शासन पर बना रहे। भारत इस समय समस्त विश्व की ही भांति कोरोना महामारी से युद्ध कर रहा है, भारत की असंख्य प्रजा भी इस युद्ध में एक सैनिक की तरह शासक के साथ खड़ी है,...

Continue reading

अतिविकास, अतिविलाश और अतिसत्तामद का परिणाम है कोरोना महामारी

अयोध्यापुरी, पूरी दुनिया में जो कोरोना नाम की महामारी फैल चुकी है वह केवल संयोग नहीं है, अपितु दुनिया में प्रचलित अतिविकास, अतिविलाश और अतिसत्तामद का दुष्परिणाम है, जब दुनिया में विकास नहीं था, तब भी दुनिया में एश्वर्य था, खुशी थी, धन था वैभव था और ज्ञान, विद्या इत्यादि...

Continue reading

हिंदुत्व बनाम गजवा-ए-हिन्द

राजा रामचंद्र की जय। हिंदुत्व की आदि भूमि भारत समेत समस्त विश्व में इस्लाम के आक्रमण के अलग-अलग आयाम रहे हैं। भारत के संदर्भ में इस आयाम का नाम है गजवा-ए-हिंद। इस्लाम के उदय के साथ ही, इस्लाम अपने शासन प्रणाली को विस्तृत करने और विश्वव्यापी करने के लिए सर्वप्रथम...

Continue reading

मोदी के काश्मीर निति पर वोट अवश्य करें।

राजा रामचंद्र की जय, इस समय भारत में भरतवंश के उन मुक्त कुलों का शासन है जो अपने को अखंड भारत व राम भक्ति से जोड़ती है इसी कड़ी में रामराज्य प्रशासन द्वारा मोदी सरकार के काश्मीर निति पर यह वोटिंग कराई जा रही है। कृपया स्वयं भी वोट करें...

Continue reading