चपटी धरती का यूरोपियन ईसाई नववर्ष है यह 1 जनवरी

राजा रामचंद्र की जय। 1 जनवरी 2019 को जो लोग नव वर्ष बता रहे हैं । उन्हें शायद यह पता ही नहीं कि आज से 400-500 साल पहले तक यह यूरोपियन लोग धरती को चपटा मानते थे। ईसाईयों का नववर्ष चर्च द्वारा ईसाई धर्म शुरू करने का गिनती मात्र है।...

Continue reading

रामराज्य में बंधुत्व के लिए गले मिलने की सनातन परंपरा है।

राजा रामचंद्र की जय। सनातन धर्म जो कि पूरे विश्व में मनुष्य का मूल धर्म है रूपी समाज में बंधुत्व की कमी एक बहुत बड़ी समस्या है, जिसके कारण पूरा का पूरा समाज आपस में बंटा हुआ प्रतीत होता है। जिसके कारण कलयुग में उत्पन्न हुए अनेकानेक विधर्मी संप्रदाय सनातन...

Continue reading

रामराज्य के स्वयंसेवक बनें

राजा रामचंद्र की जय । आज भारत समेत पूरा विश्व दुःख, दरिद्रता, आतंकवाद, अतिवाद, असमानता, विभिन्न प्रकार के शत्रुता के संघर्ष से घिरा हुआ दिखाई देता है, मानव अपने आप को इन समस्याओं से निकाल पाने में असमर्थ पा रहा है, द्वंद और संघर्ष के इस युग में भी रामराज्य...

Continue reading

पूरे विश्व में रामराज्य के प्रसार हेतु रामराज्य कोष में नियमित योगदान करें।

राजा श्री रामचंद्र की जय  पूरे विश्व में राजा श्री रामचंद्र का शासन संचालित हो सके इसके लिए यह आवश्यक है कि पूरे विश्व की श्री रामचंद्र की प्रजा अपने प्रजा दायित्व को विभिन्न स्वरूपों में पूर्ण करे।  इसी दायित्व में एक दायित्व है अपने राजा को समय-समय पर आर्थिक...

Continue reading

श्री संजय विनायक जोशी – रामराज्य के अनुकूल व्यक्तित्व

रामराज्य के अनुकूल नेतृत्व मिलना इस कलयुग में दुर्लभ है, परन्तु वर्तमान युग में भी भारत के राजनैतिक परिदृश्य में एक ऐसा व्यक्तित्व है जिसके स्वभाव में रामराज्य के अनुकूल नेतृत्व के गुण पाए जाते हैं, भारत में यों तो कई राजनैतिक दल हैं, परन्तु कोई ऐसा नेता नहीं दिखता...

Continue reading

वर्तमान चुनावी परिणामों का संकेत- भारत में सनातन धर्म खतरे में-रामराज्य प्रशासन

जय श्रीराम। जैसा कि आज भारत में हुए पांच राज्यों के  विधानसभा चुनाव के परिणाम में यह देखने में आया कि हिंदुत्व के नाम पर राजनीति करने वाली प्रमुख राजनैतिक दल भारतीय जनता पार्टी को हिन्दुओं ने ही नकार दिया और अपने जन्म के साथ ही हिंदुत्व की विरोधी रही...

Continue reading