श्री रामजन्म भूमि ही नहीं पूरी की पूरी अयोध्या सनातन धर्म की है।

राजा रामचंद्र की जय। विश्व सम्राट की जन्म भूमि जिसे सनातन धर्मी श्रीराम जन्म भूमि की संज्ञा देते हैं, वह सनातन धर्म का प्राण बिंदु है, जिसकी रक्षा स्वयं महाबली बजरंगबली जी करते हैं और हम सब तो केवल उनके अनुगामी हैं। केवल श्री रामजन्म भूमि ही नहीं अपितु शास्त्रों...

Continue reading

श्री राजा रामचंद्र जी सनातन धर्म की एक मात्र सरकार हैं।

राजा रामचंद्र की जय। सनातन धर्मावलम्बी जिन्हें वर्तमान काल में हिन्दू भी कहा जाने लगा है, को यह जानकारी होनी चाहिए कि राजा रामचंद्र ही पुरे विश्व के एक मात्र राजा हैं, इसीलिए स्वामी तुलसीदास जी ने कहा है कि  सब पर राम तपस्वी राजा      अर्थात रामचंद्र जी...

Continue reading

रामराज्य के स्वयंसेवक बनें

राजा रामचंद्र की जय । आज भारत समेत पूरा विश्व दुःख, दरिद्रता, आतंकवाद, अतिवाद, असमानता, विभिन्न प्रकार के शत्रुता के संघर्ष से घिरा हुआ दिखाई देता है, मानव अपने आप को इन समस्याओं से निकाल पाने में असमर्थ पा रहा है, द्वंद और संघर्ष के इस युग में भी रामराज्य...

Continue reading

संवत् २०७६ का रामराज्य कोष आज ही जमा करें।

विक्रम संवत्- २०७६ राजा रामचंद्र की जय। राजा रामचंद्र जी समस्त विश्व के राजा हैं। अयोध्या उनकी परम प्रिय राजधानी है। यहां से वह बैठकर समस्त विश्व का संचालन करते हैं। हम सब उनकी प्रजा हैं। इसी संबंध के कारण प्रजा का यह दायित्व है की प्रत्येक वर्ष में व...

Continue reading

अयोध्या विश्व की प्रथम वैश्विक राजधानी है।

 राजा रामचंद्र की जय। दुनिया में जब कहीं भी कोई शहर नहीं था। कोई नगर नहीं था ।कोई देश नहीं था । कोई राजधानी नहीं थी। उस समय सबसे पहली बार मनु के द्वारा एक राजधानी का निर्माण किया गया जिसे अयोध्यापुरी कहते हैं। आपको जानकर आश्चर्य होगा की इसी...

Continue reading

चपटी धरती का यूरोपियन ईसाई नववर्ष है यह 1 जनवरी

राजा रामचंद्र की जय। 1 जनवरी 2019 को जो लोग नव वर्ष बता रहे हैं । उन्हें शायद यह पता ही नहीं कि आज से 400-500 साल पहले तक यह यूरोपियन लोग धरती को चपटा मानते थे। ईसाईयों का नववर्ष चर्च द्वारा ईसाई धर्म शुरू करने का गिनती मात्र है।...

Continue reading

रामराज्य में बंधुत्व के लिए गले मिलने की सनातन परंपरा है।

राजा रामचंद्र की जय। सनातन धर्म जो कि पूरे विश्व में मनुष्य का मूल धर्म है रूपी समाज में बंधुत्व की कमी एक बहुत बड़ी समस्या है, जिसके कारण पूरा का पूरा समाज आपस में बंटा हुआ प्रतीत होता है। जिसके कारण कलयुग में उत्पन्न हुए अनेकानेक विधर्मी संप्रदाय सनातन...

Continue reading

रामराज्य के स्वयंसेवक बनें

राजा रामचंद्र की जय । आज भारत समेत पूरा विश्व दुःख, दरिद्रता, आतंकवाद, अतिवाद, असमानता, विभिन्न प्रकार के शत्रुता के संघर्ष से घिरा हुआ दिखाई देता है, मानव अपने आप को इन समस्याओं से निकाल पाने में असमर्थ पा रहा है, द्वंद और संघर्ष के इस युग में भी रामराज्य...

Continue reading

पूरे विश्व में रामराज्य के प्रसार हेतु रामराज्य कोष में नियमित योगदान करें।

राजा श्री रामचंद्र की जय  पूरे विश्व में राजा श्री रामचंद्र का शासन संचालित हो सके इसके लिए यह आवश्यक है कि पूरे विश्व की श्री रामचंद्र की प्रजा अपने प्रजा दायित्व को विभिन्न स्वरूपों में पूर्ण करे।  इसी दायित्व में एक दायित्व है अपने राजा को समय-समय पर आर्थिक...

Continue reading