अखिल विश्व में बजेगा रामराज्य सभा का डंका और जलेगी असुरों की लंका

यह वही सनातन राजसभा है, जो राजा श्रीराम के राज्य को पुनः संचालित करने हेतु अक्षय तृतीया २०७५ को हनुमान जी के संरक्षण में अपना कार्य प्रारंभ किया है, इसके उद्देश्य और कार्य का निर्देश भी भारत के महान संत श्री करपात्री जी महाराज ने स्वयं अपने संबोधन में बहुत पहले ही दिया था …….

आप भी इस राजसभा के लिए अपने को सिद्ध करें और इस राज्यसभा में सम्मिलित होकर रामराज्य के सञ्चालन में अपनी भूमिका को पूर्ण करने का प्रयास करें, और राजा श्रीराम के सिंहासन को पूरे संसार में प्रतिष्ठित करें। ………….        राजा रामचंद्र की जय

राजा रामचन्द्र जी की सनातन राज्य सभा को पुनः सुदृढ़ करने का प्रयास रामराज्य प्रशासन द्वारा किया जा रहा है, इस क्रम में आप भी यदि इस रामराज्य सभा के पार्षद होना चाहते हैं तो कृपया निचे दिए लिंक के माध्यम से अपना पंजीकरण अवश्य करें।

जय श्री राम  

श्री रामराज्य सभा २०७७ में भाग लेने हेतु आवेदन
*
पार्षद नाम
please fill it
Please enter valid data.
This username is already registered, please choose another one.
invalid name
श्री रामराज्य सभा में भाग लेने हेतु एक अनोखा नाम बनायें
*
पहला नाम
First Name can not be left blank.
Please enter valid data.
Please enter valid data.
This first name is invalid. Please enter a valid first name.
*
अंतिम नाम
Last Name can not be left blank.
Please enter valid data.
Please enter valid data.
This last name is invalid. Please enter a valid last name.
*
तरंगित पता/ईमेल पता
ईमेल पता देना अनिवार्य है
कृपया एक स्वीकार्य ईमेल पता दें
कृपया एक स्वीकार्य ईमेल पता दें
This email is already registered, please choose another one.
*
पासवर्ड
Password can not be left blank.
Please enter valid data.
Please enter at least 8 characters.
Please use atleast one lowercase character.
Please use atleast one uppercase character.
Please use atleast one numeric character.
Please use atleast one special character.
    Strength: Very Weak
    *
    मोबाइल नंबर
    Text field can not be left blank.
    Please enter valid data.
    Please enter at least 10 characters.
    Maximum 10 characters allowed.
    Please enter valid data.
    पिता का नाम
    Text field can not be left blank.
    Please enter valid data.
    माता का नाम
    Text field can not be left blank.
    Please enter valid data.
    जीवन साथी का नाम
    Text field can not be left blank.
    Please enter valid data.
    यदि आप विवाहित पुरुष हैं तो धर्मपत्नी का नाम और यदि विवाहित स्त्री हैं तो धर्मपति का नाम और यदि अविवाहित हैं या किन्नर योनि में हैं तो स्थान को खाली छोड़ दें
    पितामह का नाम
    Text field can not be left blank.
    Please enter valid data.
    आपके पिता के पिता का नाम
    पितामही का नाम
    Text field can not be left blank.
    Please enter valid data.
    आपके पिता के माता का नाम
    भाई व बहनों का विवरण (उम्र सहित)
    Text field can not be left blank.
    Please enter valid data.
    यदि आपके अन्य भाई/बहन हैं तो कृपया उनका विवरण आयु व नाम सहित दें
    पुत्र व पुत्रिओं का विवरण(उम्र सहित)
    Text field can not be left blank.
    Please enter valid data.
    यदि आप के पुत्र/पुत्री हैं तो कृपया उनका नाम व आयु सहित विवरण दें
    गोत्र, कुल, वंश का विवरण
    Text field can not be left blank.
    Please enter valid data.
    आप अपने कुल को जिस गोत्र/वंश/कुलनाम इत्यादि से संबोधित करते हों उसका विवरण प्रदान करें, यदि इस सन्दर्भ में अनभिज्ञ हों तो स्थान खाली छोड़ दें
    *
    पूर्ण पता (पिन कोड सहित)
    This Field can not be left blank.
    Please enter valid data.
    पत्र व्यवहार के लिए आपना पूर्ण पता पिनकोड सहित प्रदान करें
    *
    आश्रम
    ब्रह्मचर्यंगृहस्थवानप्रस्थसन्यास
    Please select one option.
    Please enter valid data.
    १. यदि आप शिक्षारत हैं और कौमार्य भंग नहीं किया है/ विधिवत ब्रम्हचर्य धारण किया हो तो ही ब्रम्हचर्य आश्रम चुनें २. यदि आप विवाहित हैं और गृहस्थी का भार उठा रहें हैं तो गृहस्थ आश्रम चुनें, ३. यदि आपने गृहस्थ आश्रम की जिम्मेदारी से अपने को मुक्त कर लिया है और अगली पीढ़ी को जिम्मेदारी दे दी है, भगवान के भजन-पूजन, समाज सेवा में लगे हैं और आयु ५० से अधिक हो चुकी है तो वानप्रस्थ आश्रम चुनें ४. आप यदि तीनों आश्रम में नहीं आते और विधिवत अपना पिंडदान करके सन्यास आश्रम चुन चुके हैं या ७५ से अधिक आयु हो चुकी है और गृहस्थी से विलग हैं तो सन्यास आश्रम चुनें
    *
    जन्म तिथि
    Please select date.
    Invalid Date.
    अपनी वास्तिव जन्मतिथि भरें, सरकारी प्रमाण पत्र की और आपकी वास्तविक जन्म तिथि यदि सामान हो तो अच्छा है अन्यथा वास्तविक तिथि ही प्रदान करें
    जन्म समय (यदि हो)
    Text field can not be left blank.
    Please enter valid data.
    यदि आपको निश्चित जन्म समय पता हो तो कृपया प्रदान करें
    जन्म स्थान
    Text field can not be left blank.
    Please enter valid data.
    जिस नगर/जनपद/जिला में आपका जन्म हुआ है उसका विवरण दें
    जन्म कुंडली (यदि हो)
    Please select file.
    Invalid file selected.
    Invalid file selected.
    *
    फोटो
    Please select file.
    Invalid file selected.
    Invalid file selected.
    अपना एक स्पष्ट छाया चित्र लगाएं जिसमें आपका चेहरा स्पष्ट दिख रहा हो
    *
    भुगतान की विधि
    भुगतान की विधिऑनलाइनपेटीएमबैंक ट्रान्सफरअन्य यथा रामराज्य कोष पूजन
    Please select atleast one option.
    Please enter valid data.
    भुगतान करने के लिए श्री रामराज्य कोष मेनू पर जाकर किसी भी विकल्प से भुगतान कर सकते हैं।
    *
    ट्रांजेक्शन आईडी
    Text field can not be left blank.
    Please enter valid data.
    *
    ट्रांजेक्शन डेट
    Please select date.
    Invalid Date.
    *
    अमाउन्ट
    Text field can not be left blank.
    Please enter valid data.
    Facebook
    Twitter
    LinkedIn
    Instagram
    Youtube
    Submit
     

    श्री रामराज्य कोष

    श्री रामराज्य सभा अयोध्या
    अक्षय तृतीया संवत् २०७५

    पार्षद

    १. श्री राजीव श्रीवास्तव ,अयोध्या
    २. श्री रवि कुमार तिवारी, अयोध्या
    ३. श्री राकेश सिंह, अयोध्या
    ४. श्रीमती उषा कालरा, दिल्ली
    ५. श्री व श्रीमती श्रवण कुमार सिंह, चुनार
    ६. श्री व श्रीमती प्रमोद जी, वाराणसी
    ७. श्री व श्रीमती हेमंत जी, वाराणसी
    ८. श्री रामाज्ञा प्रसाद कुशवाहा, वाराणसी
    ९.  श्री लालजी सिंह, वाराणसी

    संत

    महान्त ममता शास्त्री, दर्शन भवन,  अयोध्या

    अतिथि

    १. स्वामी आत्म योगी, अयोध्या

    प्रशासक

    १. श्री भाष्कर सिंह

    २. श्री बागेश श्रीवास्तव

    श्री रामराज्य सभा के प्रस्ताव

    निम्नलिखित प्रस्ताव पर चचा हुई और प्रशासन को इसके अनुसार योजनाबद्ध कार्यवाही हेतु निर्देशित  किया गया-

    प्रस्ताव-

    १. रामराज्य (रामायण) की कथा का प्रचार व प्रसार
    २. रामराज्य की प्रजा का पंजीकरण
    ३. रामराज्य प्रशासन का पूरे विश्व  में विस्तार किया जाना
    ४. नई पीढ़ी को सभी माध्यमों से रामराज्य से जोड़ना

    श्री रामराज्य सभा के सदस्यों द्वारा सरयू माता के स्नान के पश्चात् का समूह चित्र 

    श्री रामराज्य सभा, अयोध्यापुरी

    संवत् २०७६

    पार्षद-

    १. श्री रामकृष्ण जी व श्रीमती राजकुमारी अरोड़ा जी

    २. श्रीमती सीमा देवी

    ३. श्री अश्वनि सिंह

    ४. श्री आशीष सिंह

    ५. श्री राजेश सिंह

    ६. विद्यावारिधि श्री दिवाकर मिश्र

    ७. श्रीमती उषा कालरा

    ८. श्री संतोष कुमार जयसवाल

    ९. श्री राकेश सिंह

    १०. श्री वासुदेवाचार्य

    ११. श्रीमती विद्या सिंह

    १२. श्रीमती रानी जी

    १३. श्री रवि कुमार तिवारी

    १४. श्री राघवेंद्र पांडे

    प्रशासक-

    १. श्री भाष्कर सिंह

    २. श्री बागेश कुमार श्रीवास्तव

    ३. श्री श्रवण कुमार चौहान

    ४. श्री अमरदीप मौर्य

    ५. श्री अमित पाठक

    ६. आचार्य श्री प्रमोद कुमार मिश्र

    ७. श्री संदीप कुमार सिंह

    संत-

    महान्त डॉ. ममता शास्त्री

    [sg_popup id=5308]